Tuesday, February 27, 2024

शादी के बाद पत्नी ने दाढ़ी-मूंछ पति ने दे दिया तलाक, लेकिन बाद में महिला ने क्या किया…

वुमन विद फुल बियर्ड: हमारे समाज में लोगों को उनके नाम, पद, प्रतिष्ठा, धन, क्षमता के साथ-साथ उनके रूप-रंग से भी आंका जाता है। हालांकि कई लोग ऐसे भी होते हैं जो दूसरों को उनके स्वभाव से नहीं बल्कि उनके चेहरे से आंक लेते हैं। ऐसे लोग दूसरों के बारे में पहले से ही धारणा बना लेते हैं कि वह व्यक्ति कैसा होगा। इस चक्कर में कुछ रिश्तों का दुखद अंत भी हो जाता है। कुछ ऐसा ही मनदीप कौर के साथ हुआ जिनकी जिंदगी एक बदलाव ने पलट दी। हालांकि, उन्होंने इस समस्या के आगे घुटने टेकने के बजाय आगे बढ़ने का फैसला किया।

तस्वीर में दिख रही शख्स पंजाबी हट्टाकट्टा युवक नहीं बल्कि मनदीप कौर नाम की महिला है। जिसकी कहानी आपको सोचने पर मजबूर कर देगी। मूल रूप से पंजाब की रहने वाली मनदीप कौर को उनके पति ने इसलिए तलाक दे दिया था क्योंकि उनकी दाढ़ी और मूंछें बढ़ गई थीं। हालांकि इस बदलाव के बाद उनकी जिंदगी में कई उतार-चढ़ाव आए। लेकिन फिर भी उन्होंने अपना यह रूप स्वीकार कर लिया। आज शर्मिंदगी के बजाय मनदीप को अपनी नई पहचान पर गर्व महसूस हो रहा है।

मनदीप अपने परिवार के साथ काफी खुश हैं। जीवन को पूरी शान से जीते हैं। नए आत्मविश्वास से भरे मनदीप ने यह भी खुलासा किया कि कैसे उन्होंने अपनी बढ़ी हुई दाढ़ी को शेव करने से इनकार कर दिया। उसे देखकर कोई नहीं बता सकता कि यह महिला है। जब वह बात करने लगती है तो पता चलता है कि वह एक महिला है। अब वह अपने भाइयों के साथ खेती की देखभाल करता है। वह खुलकर अपनी जिंदगी जीते हैं।

डेली मेल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक मनदीप ने साल 2012 में शादी की थी। कुछ सालों तक उनका वैवाहिक जीवन काफी खुशहाल रहा लेकिन परेशानी तब शुरू हुई जब उन्होंने दाढ़ी और मूंछें बढ़ा लीं। इस घटना के बाद मनदीप के पति ने तलाक ले लिया और मनदीप डिप्रेशन में चला गया। हालांकि, उदास मनदीप ने टूटने के बजाय गुरुद्वारे की ओर जाना शुरू कर दिया।

गुरुद्वारे में जाकर उन्हें मन की शांति मिली और तनाव से मुक्ति मिली और अपने शरीर को ज्यों का त्यों स्वीकार करने की प्रेरणा मिली। फिर उन्होंने अपने चेहरे के बालों को हटाना बंद कर दिया और सिर पर पगड़ी पहनना शुरू कर दिया। आज वह बेहद सामान्य जीवन जी रहे हैं। मनदीप ने भी आज गोलियां चलाईं। उन्हें खुशी है कि उन्होंने अपनी कमजोरी को ताकत में बदलकर एक नई पहचान और रुतबा कायम किया।

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles