Tuesday, February 27, 2024

चीन में बना कोरोना वायरस और दुनिया के सामने आया लीक, अमेरिका ने किया बड़ा खुलासा…

अमेरिका ने भी इस सिलसिले में कई गलतियां की हैं। राष्ट्रीय खुफिया निदेशक Avril Haynes के कार्यालय का एक दस्तावेज़ इस वायरस के उद्भव से जुड़ा था। कोरोना वायरस की उत्पत्ति के बारे में दो परस्पर विरोधी सिद्धांत हैं। पहला ये कि ये किसी अनजान जानवर से इंसानों तक पहुंचा है और दूसरा ये कि ये वुहान की एक चीनी रिसर्च लैब से लीक हुआ है. गौरतलब है कि कोरोना वायरस सबसे पहले चीन में देखा गया था। 2020 की शुरुआत तक यह लगभग पूरी दुनिया में फैल चुका था। कोरोना की वजह से पूरी दुनिया में सप्लाई चेन बाधित हो गई थी। ऊर्जा विभाग की रिपोर्ट चार अन्य अमेरिकी खुफिया एजेंसियों के विपरीत है। दोनों एजेंसियां ​​इस निष्कर्ष पर पहुंचीं कि महामारी प्रकृति में संक्रमित जानवर से फैलती है। वहीं, दोनों एजेंसियां ​​किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाईं।

इसका विवरण कई बार विवादित रहा है। कोई साफ तौर पर यह नहीं कह रहा है कि यह वायरस चीन से लीक हुआ और चीन इसे स्वीकार भी नहीं कर रहा है. वॉल स्ट्रीट जर्नल के मुताबिक, अमेरिकी ऊर्जा विभाग द्वारा जारी इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि हमारे शोध में वैज्ञानिक विशेषज्ञ शामिल थे। साथ ही, अमेरिकी प्रयोगशाला के साथ एक जैविक शोध किया गया।

ऊर्जा विभाग के मुताबिक, दुनिया भर में फैली अमेरिकी बायोलॉजी लैब के साथ मिलकर तैयार की गई रिसर्च के मुताबिक, चीन के वुहान शहर की एक लैब से एक वायरल लीक का खुलासा हुआ है। यह वायरस एक चीनी प्रयोगशाला में आपदा के दौरान लीक हुआ था जिससे लाखों लोग प्रभावित हुए हैं। और कई लोगों को बीमार करने के साथ-साथ बड़े से छोटे देश आर्थिक रूप से तबाह हो गए।

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles