Saturday, April 1, 2023

ट्रैफिक सिग्नल तोड़ने पर भी सलाम करते हैं हवलदार, बेटी की मौत के सदमे से मर गए…

1970-90 के दशक की ज्यादातर बॉलीवुड फिल्मों में आपको एक दुबले-पतले, लेकिन हैंडसम पुलिस इंस्पेक्टर की जरूरत होती है। उसका नाम इफ्तिखार है। 1944 के आसपास गायक बनने के लिए घर छोड़ दिया, लेकिन अभिनेता बन गए। इफ्तिखार ने एक पुलिस इंस्पेक्टर की भूमिका को इस हद तक आत्मसात किया कि असल जिंदगी में भी लोग उन्हें एक पुलिस अधिकारी ही समझते थे। ट्रैफिक सिग्नल पर प्रभारी ने उन्हें देखा और सलामी दी। इफ्तिखार एक चित्रकार भी थे। उन्होंने अशोक कुमार को पेंटिंग सिखाई और वे उन्हें अपना गुरु मानते थे। जब देश का बंटवारा हुआ तो पूरा परिवार पाकिस्तान चला गया, लेकिन भारत में ही रहा। कोलकाता में दंगों के कारण जान बचाने के लिए मुंबई आया था। कुछ ही फिल्मों में हीरो के तौर पर काम किया, लेकिन सपोर्टिंग रोल भी किया।

बी.आर. चोपड़ा की फिल्म ‘इत्तेफाक’ में उन्होंने एक पुलिस इंस्पेक्टर की भूमिका इतनी अच्छी तरह से निभाई कि उन्हें समान भूमिकाएं मिलीं। 400 से ज्यादा फिल्मों में काम किया, ज्यादातर पुलिस, वकील, डॉक्टर या जज के रूप में। इफ्तिखार अपनी बेटियों से बहुत प्यार करते थे। बेटी सईदा को कैंसर हो गया और वह इस सदमे को सहन नहीं कर सकीं। बेटी की मौत के 21 दिन बाद ही इफ्तिखार की मौत हो गई।

बॉलीवुड पर इफ्तिखार का प्रभाव महत्वपूर्ण था। आज भी जब फिल्म में पुलिस की भूमिका की बात आती है तो इफ्तिखार का चेहरा तुरंत सामने आ जाता है। आज की अनकही कहानियों में इफ्तिखार की कहानी…

अशोक कुमार ने शुरुआती दिनों में इफ्तिखार की काफी मदद की।
अशोक कुमार ने शुरुआती दिनों में इफ्तिखार की काफी मदद की।

इफ्तिखार का जन्म 22 फरवरी, 1924 को जालंधर में केएल सहगल जैसा गायक बनने के लिए हुआ था। पूरा नाम सैयदना इफ्तिखार अहमद शरीफ था। चार भाई-बहनों में सबसे बड़े थे। पिता कानपुर की एक कंपनी में बड़े अधिकारी थे। एक बच्चे के रूप में के एल सहगल (कुंदन लाल सहगल) ने एक लोकप्रिय गायक बनने का सपना देखा था। इफ्तिखार को पेंटिंग करने का भी काफी शौक था। इस शौक को पूरा करने के लिए उन्होंने मैट्रिक के बाद लखनऊ कॉलेज ऑफ आर्ट्स से पेंटिंग में डिप्लोमा कोर्स किया। फिर संगीत पर ध्यान दिया।

गायक बने, लेकिन 1944 में एक फिल्म का प्रस्ताव मिला, जब फिल्म उद्योग में कोलकाता की बहुत बड़ी हिस्सेदारी थी। इफ्तिखार ने अपने पिता से कोलकाता जाकर गायक बनने को कहा। पिता ने 20 साल के इफ्तिखार को कोलकाता भेज दिया। यहां उन्होंने एचएमवी म्यूजिक कंपनी के ऑफिस जाकर ऑडिशन दिया। यहीं पर संगीतकार कमल दासगुप्ता को उनका गायन और उनका व्यक्तित्व पसंद आया। उन्होंने उन्हें गायक नहीं अभिनेता बनने की सलाह दी। इसके साथ ही फिल्म ऑफर की थी। इफ्तिखार ने फिल्म साइन की।

खुद का म्यूजिक एल्बम रिलीज किया फिल्मों में एक्टर के तौर पर काम किया, लेकिन गाने का शौक था। इफ्तिखार ने अपने गानों की एक एल्बम लाने का फैसला किया। एल्बम के दो गाने लोकप्रिय हुए और फिर वे कानपुर के लिए रवाना हो गए। कानपुर जाने के बाद प्रोड्यूसर ने तार भेजकर वापस बुला लिया। पिता को कोलकाता भेज दिया, लेकिन परिजनों को यह बात बिल्कुल पसंद नहीं आई।

400 से ज्यादा फिल्मों में काम किया।
400 से ज्यादा फिल्मों में काम किया।
यहूदी लड़की से शादी कोलकाता में इफ्तिखार की शादी सईदा नाम की लड़की से तय हुई थी। हालाँकि, कोलकाता में अपनी बिल्डिंग में रहने वाली एक यहूदी लड़की हाना जोसेफ और इफ्तिखार को प्यार हो गया। कुछ समय बाद दोनों ने शादी करने का फैसला किया। इफ्तिखार की शादी पहले से तय थी, लेकिन वह हाना के साथ घर बसाना चाहता था। इसी वजह से इफ्तिखार ने सईदा से रिश्ता तोड़ लिया और हाना से निकाह कर लिया। शादी के बाद हाना ने अपना नाम बदलकर रेहाना अहमद रख लिया। 1946 में सबसे बड़ी बेटी सलमा का जन्म हुआ और 1947 में दूसरी बेटी सईदा का जन्म हुआ। कोलकाता लौटने के बाद इफ्तिखार की फिल्म ‘तकरार’ रिलीज हुई। उन्हें उस वक्त की टॉप एक्ट्रेस जमुना के साथ देखा गया था। फिर 1945 में दो और फिल्में रिलीज हुईं।

बंटवारे के बाद परिवार पाकिस्तान चला गया.इफ्तिखार:के करियर में सब कुछ ठीक चल रहा था और फिर भारत-पाकिस्तान का बंटवारा हो गया. परिवार पाकिस्तान चला गया। इफ्तिखार भारत में ही रहा। हालांकि, जिस कंपनी के लिए वह काम कर रहा था, उसने उसे निकाल दिया।

इफ्तिखार ने ‘नंदिनी’, ‘सावन भादो’, ‘खेल खेल मैं’ और ‘एजेंट विनोद’ में नकारात्मक भूमिकाएं निभाईं।
इफ्तिखार ने ‘नंदिनी’, ‘सावन भादो’, ‘खेल खेल मैं’ और ‘एजेंट विनोद’ में नकारात्मक भूमिकाएं निभाईं।
जब कोलकाता में साम्प्रदायिक दंगे हुए तो जान बचाने के लिए मुंबई आ गए।कोलकाता
में साम्प्रदायिक दंगे हुए तो इफ्तिखार अपने परिवार समेत मुंबई आ गए। मुंबई में वे संगीतकार अनिल बिस्वास को जानते थे। यहां लंबे समय बाद नौकरी मिली है। मुंबई में संघर्ष के दिनों को याद करते हुए बड़ी बेटी सलमा ने कहा, ‘मैं और मेरी बहन उस वक्त बहुत छोटे थे। घर में अक्सर खाना नहीं होता था। माँ को श्री पाटनवाला के यहाँ सचिव के रूप में काम करना पड़ा। पापा को छोटे-बड़े रोल मिलते थे, लेकिन हमारी स्थिति में कोई खास बदलाव नहीं आया.’

अभिनेता इफ्तिखार को अपना गुरु मानकर अशोक:कुमार मुंबई आकर अशोक कुमार से मिले। फिर अशोक कुमार की वजह से इफ्तिखार को फिल्म में छोटे-मोटे रोल मिले। इफ्तिखार एक अच्छे चित्रकार थे। अशोक कुमार ने उनसे पेंटिंग सीखी। दोनों के बीच उम्र का फासला होने के बावजूद अशोक कुमार अभिनेता इफ्तिखार को अपना गुरु मानते थे। एक बार अशोक कुमार बीमार पड़ गए और कई दिनों तक बिस्तर पर पड़े रहे। काम नहीं होने के कारण उनका स्वभाव चिड़चिड़ा हो गया था। इसी बीच इफ्तिखार घर आया और उसने अशोक कुमार को सलाह दी कि वह जो चाहे करे। अशोक कुमार ने बताया कि उन्हें पेंटिंग का शौक है। उसके बाद इफ्तिखार ने उन्हें पेंटिंग सिखाई।

किशोर कुमार की फिल्म ‘दूर गगन की छांव में’ के टाइटल पोस्टर के बैकग्राउंड में इफ्तिखार की एक पेंटिंग दिखाई गई थी.
किशोर कुमार की फिल्म ‘दूर गगन की छांव में’ के टाइटल पोस्टर के बैकग्राउंड में इफ्तिखार की एक पेंटिंग दिखाई गई थी.

फिल्म ‘इत्तेफाक’ में इफ्तिखार ने पहली बार एक पुलिसवाले की भूमिका निभाई थी । फिल्म बॉक्स ऑफिस पर हिट रही थी। इस फिल्म से इफ्तिखार की किस्मत पलट गई। इस फिल्म के बाद इफ्तिखार के पास काम की कोई कमी नहीं रही. उन्होंने मुंबई के खार में एक फ्लैट खरीदा था। उन्होंने ‘जॉनी मेरा नाम’, ‘दीवार’, ‘डॉन’ जैसी फिल्मों में पुलिस की भूमिका निभाई। इफ्तिखार की बेटी सलमा ने कहा कि फिल्म ‘इत्तेफाक’ के बाद दादी का करियर ढलान पर जाने लगा था। श्रेय अशोक कुमार को जाता है। उनकी सिफारिश के चलते ही दादी को बीआर फिल्म्स में एंट्री मिली।

ट्रैफिक पुलिस असली पुलिस अफसरों की तरह सैल्यूट करती थी:पुलिस अफसर के रोल में इफ्तिखार इस कदर पॉपुलर हुए कि लोग उन्हें असल जिंदगी में भी पुलिस वाला समझने लगे। एक मामला यह भी है कि जब वह ट्रैफिक सिग्नल पार कर रहा था तो ट्रैफिक पुलिस ने उसे सलामी दी। अक्सर उन्हें ट्रैफिक सिग्नल तोड़ने के बावजूद जुर्माना लगाने के बजाय गलती से पुलिसकर्मी समझ लिया जाता था। एक बार इफ्तिखार अपनी पत्नी के साथ नो एंट्री लेन से गुजरे लेकिन पुलिस ने इफ्तिखार को देखकर उन्हे जाने दिया.

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles