Saturday, July 13, 2024

कहीं क्रोध तो नहीं आपके असफलता का कारण, जानें कितना घातक हो सकता है यह…

जीवन में सफल बनने और सफलता को प्राप्त करने के लिए व्यक्ति में कई तरह के गुणों की आवश्यकता होती है. लेकिन क्रोध ऐसा अवगुण है, जोकि असफलता का कारण बनता है.

क्रोध के कारण कई बार ऐसा होता है कि, व्यक्ति सबकुछ पाया हुआ भी खो देता है. क्रोध के कारण ही कई बार व्यक्ति बड़ी गलती को भी कर बैठता है. इसलिए आपकी असफलता का एक कारण क्रोध भी हो सकता है. आज सफलता की कुंजी में हम आपको बताएंगे क्रोध पर ऐसे महत्वपूर्ण सुविचारों के बारे में, जिसका आत्मसात करने पर आपका जीवन बदल जाएगा.

क्रोध पर बेहतरीन सुविचार, जिससे बदल जाएगा आपका बुरा समय

-क्रोध मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु हैं, जो इससे दोस्ती करता है वह उसी का शरीर,मन,वचन,भाव और ज्ञान का विनाश करता है.
क्रोध सवार होने पर शान्त व्यक्ति भी शेर बन जाता है और वह अपने पराए का भेद भी नहीं समझता.

-जरूरी नहीं कि क्रोध मूर्खो के हृदय में ही बसता हैं,यह एक ऐसी कुबुद्धि भाव है जोकि ॠषि मुनियों को भी नहीं छोडती.

-शास्त्रों में कहा गया है, कि क्रोध समस्याओं का समाधान नही, बल्कि नई समस्याओं को आमंत्रित करने वाला है.

-क्रोध का अंत पश्चाताप ही होता है,जिसके बाद व्यक्ति अपने आप को कोसने लगता है. लेकिन जब वक्त हाथ से फिसल जाए तो कुछ
नहीं किया जा सकता है.

-क्रोध ऐसा भयानक तूफान है,जो आते ही ज्ञान रूपी ज्योति को बुझा देता है.

-कहा जाता है कि क्रोध के समय कोई भी फैसला नहीं लेना चाहिए. क्योंकि क्रोध में लिया हर फैसला गलत होता है और यह मूर्खता का
प्रमाण है.

-क्रोध को दूर करने का सबसे अच्छा उपाय है ‘मौन’. इसलिए जब तक क्रोध आप पर हावी है आप मौन रहें.

-क्रोध को वश में करने या काबू पाने के लिए ‘गायत्री मंत्र’ का उच्चारण करें. इस मंत्र में ऐसी शक्ति है, जो क्रोध की अग्नि को
शान्त कर देती है.

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles