Wednesday, July 17, 2024

जानिए ऐसा क्या हुआ कि 100 रुपये किलो पहुंच गए टमाटर के दाम, क्या हैं कारण….

आम आदमी की जेब पर एक बार फिर से बोझ बढ़ गया है. बारिश की दस्तक ने लोगों को भीषण गर्मी से राहत जरूर प्रदान की है, मगर उनकी सेविंग्स पर चपत लगाना भी शुरू कर दिया है. हर साल की तरह इस साल भी टमाटर के बढ़े दाम ने लोगों को गहरी चिंता में डाल दिया है. अब भला चिंता भी क्यों न हो? टमाटर है ही ऐसी सब्जी, जिसके बिना हर पकवान अधूरा लगता है. हर व्यंजन की शान बढ़ाने वाला टमाटर अगर इस कदर आसमान छू ले तो आम आदमी का तेल निकलना तो तय है. आपको जानकर हैरानी होगी कि देश के कई हिस्सों में टमाटर के दाम 100-120 रुपये प्रति किलोग्राम तक हो गए हैं.

जबकि इसकी थोक कीमतें 65-70 रुपये प्रति किलो हो गई हैं. टमाटर की नई कीमतों ने गरीबों की तो चिंता बढ़ाई ही है, साथ ही साथ मध्यमवर्गीय परिवार का बजट भी बिगाड़ कर रख दिया है. हर ओर बस यही चर्चा हो रही है कि आखिर ऐसा क्या हो गया कि टमाटर के दाम इस कदर आसमान छूने लग गए.

क्यों बढ़ गए टमाटर के दाम?

दरअसल ऐसे कई कारण हैं, जिनकी वजह से टमाटर के भाव बढ़ गए हैं. पहला कारण तो तापमान का बढ़ना है. देश के कई राज्यों में पिछले कुछ दिनों से बहुत ज्यादा गर्मी पड़ रही है. दूसरी वजह यह है कि इस बार टमाटर का उत्पादन बहुत कम मात्रा में हुआ है. टमाटर कम है और मांगें बहुत ज्यादा हैं. तीसरी और सबसे बड़ी वजह बारिश का देर से आना है. इन्हीं कुछ कारणों से टमाटर के दाम में एकाएक उछाल देखा जा रहा है. पिछले ही महीने की बात है जब टमाटर 25 रुपये किलो तक बिक रहे थे. लेकिन जून का महीना आते-आते स्थिति बिगड़ गई. टमाटर की बढ़ी कीमतों ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की मुद्रास्फीति की परेशानियों को भी बढ़ा दिया है.

टमाटर की कीमतों में उछाल पिछले दो दिनों में ज्यादा तेजी आआ है. दिल्ली की आजादपुर होलसेल मार्केट के एक टमाटर व्यापारी अशोक ने बताया कि उत्तर प्रदेश और हरियाणा जैसे राज्यों से टमाटरों की सप्लाई काफी कम हो गई है. अब बेंगलुरु से टमाटर लिए जा रहे हैं. टमाटर की फसलें हाल ही में हुई बारिश के कारण खराब हो गई हैं.

कब सुधरेंगे हालात?

हालांकि ऐसा नहीं है कि आने वाले दिनों में भी यही स्थिति बनी रहेगी. अशोक ने कहा कि आगामी दिनों में टमाटर के दामों में कटौती देखने को मिल सकती है. क्योंकि इसकी नई फसल शुरू होने वाली है. लेकिन अगर हिमाचल प्रदेश या बाकी उत्पादक क्षेत्रों में भारी वर्षा होती है तो यह भी हो सकता है कि टमाटर के दाम इसी तरह ज्यादा बने रहें.

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles