Monday, May 20, 2024

माताजी यहां 24 घंटे में तीन बार बदलती हैं रूप दर्शन से यात्रा का मजा आएगा…

देशभर में कल से चैत्री नवरात्रि की शुरुआत होने जा रही है. नौ दिनों तक चलने वाले नवरात्र में मां के मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है। देवी माता के कई मंदिर देश भर में प्रसिद्ध हैं, उनमें से एक मध्य प्रदेश के देवास जिले में स्थित है, जिसे देवास वाली माता के नाम से जाना जाता है। यहां का वातावरण इतना खुशनुमा है कि यहां आने के बाद आपका कहीं जाने का मन नहीं करेगा। दर्शनीय स्थलों के साथ-साथ आपको यहां पर्यटन का भी आनंद मिलेगा। इसके अलावा यहां दिखने वाले चमत्कार के बारे में सुनकर माई भक्त दूर-दूर से यहां दर्शन के लिए आते हैं।

ऐसे हुआ था माता का जन्म:
कहा जाता है कि यहां माता सती का रक्त गिरने से दो देवियों का जन्म हुआ था। दोनों देवी एक दूसरे की बहनें हैं। दोनों देवियों को भक्त छोटी मां और मोती मां कहकर पुकारते हैं। बड़ी माता को तुलजा भवानी और छोटी माता को चामुंडा देवी के रूप में माना जाता है।

24 घंटे में बदलता है स्वरूप:
माता रानी के इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि वह 24 घंटे में तीन बार रूप बदलती हैं। इसके अलावा कहा जाता है कि यहां माता सती का रक्त गिरा था, जिसके कारण इसे रक्त शक्तिपीठ या अर्ध शक्तिपीठ का दर्जा भी मिला था।

सुपारी खिलाने की परंपरा ::
यहां आने वाले भक्तों में एक अनोखी परंपरा है। यहां माता रानी के दर्शन करने आने वाले श्रद्धालु अपने साथ सुपारी भी लेकर आते हैं। नवरात्रि के दिनों में भी लोग इसी बीड़ा माता रानी को भोजन कराते हैं।

इन्होंने की थी तपस्या:
देवास माता के बारे में कहा जाता है कि गोरखनाथ, राजा भर्तृहरि, सद्गुरु शीलनाथ महाराज जैसे कई पुरुषों ने यहां तपस्या की थी। इसके अलावा राजा विक्रमादित्य और पृथ्वीराज चौहान भी माता रानी के दरबार में मत्था टेका करते थे।

नवरात्र पर होती है भीड़:
नवरात्रि में देवासी देवी के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। कहा जाता है कि अष्टमी और नवमी के दिन राज परिवार यहां पूजा करता है और हवन में यज्ञ करता है। इसके अलावा यहां शिखर दर्शन का बहुत महत्व है।

नौ देवियों का वास:
मां चामुंडा और तुलजा भवन के अलावा देवास वाली माता के नाम से विख्यात इस मंदिर में नौ अन्य देवियों का वास बताया जाता है। कहा जाता है कि माता रानी की कृपा जिस पर होती है उसका कल्याण होता है।

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles