Tuesday, October 3, 2023

ज्वार का फल ही नहीं, फूल और छाल भी गुणों का खजाना: त्वचा की झुर्रियां दूर करता है, पेट दर्द और अल्सर में फायदेमंद यह यौन क्षमता को भी बढ़ाता है…

आजकल ज्वार का उपयोग सुपरफूड के रूप में किया जा रहा है। इसका पाउडर यानी इसकी गोलियां काफी लोकप्रिय हैं। आयुर्वेद के जानकारों के अनुसार सरगावन के तने, पत्ते, छाल, फूल, फल और कई अन्य हिस्सों का इस्तेमाल कई तरह से किया जा सकता है। सरगवा 300 से ज्यादा बीमारियों की दवा है। ज्वार का सर्वाधिक उत्पादन भारत में होता है। डॉ। अमित सेन बता रहे हैं सरगवा की खूबियां

प्रजनन क्षमता बढ़ाता है सरगावा फूल: सरगावा फूल में एंटीऑक्सीडेंट, कृमिनाशक गुण जैसे कीटनाशक, हेपेटोप्रोटेक्टिव (यकृत सुरक्षा) और एंटीबायोटिक गुण होते हैं। इसके अलावा इसमें ऐसे गुण भी होते हैं जो सूजन को कम करते हैं और कोलेस्ट्रॉल को कम करते हैं। यह यौन प्रदर्शन में भी सुधार करता है और मांसपेशियों की समस्याओं से बचाता है।

ज्वार की फली, हरी पत्तियों और सूखी पत्तियों में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन, मैग्नीशियम, विटामिन-ए, सी और बी कॉम्प्लेक्स जैसे अनेक पोषक तत्वों का खजाना प्रचुर मात्रा में पाया जाता है ।

त्वचा की झुर्रियां दूर करने के लिए:: आप ज्वार या इसकी पत्तियों को भी अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं । ज्वार खाने से आपके चेहरे पर बढ़ती उम्र के असर को कम किया जा सकता है। इसके साथ ही इसके बीज कम उम्र में ही त्वचा पर बढ़ती उम्र के असर को कम करने में भी मदद कर सकते हैं।

पेट दर्द और अल्सर में फायदेमंद: सरगा और सरगा की पत्तियां पेट की कई समस्याओं और अल्सर से बचा सकती हैं। सरगावा में एंटी-अल्सर गुण होते हैं, जो खाने पर अल्सर के खतरे से बचा सकते हैं। साथ ही लीवर की कई समस्याओं से भी छुटकारा पाया जा सकता है। सिर्फ ज्वार ही नहीं इसकी छाल भी पेट के लिए अच्छी होती है, यह पाचन क्रिया को बेहतर बनाने में मदद कर सकती है।

सरगवा के फूल से सूजन कम होती है: सरगवा के फूल का इस्तेमाल फायदेमंद साबित हो सकता है। सरगवा के फूल में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। यह ऑक्सीडेटिव तनाव के जोखिम को कम करके त्वचा को स्वस्थ रख सकता है। हालाँकि, इस विषय में प्रत्यक्ष शोध की वर्तमान में आवश्यकता है।

सरगवा फूल के फायदे हैं

सरगवा के फूलों में प्रोटीन और कई तरह के विटामिन और पोषक तत्व होते हैं।
महिलाओं में यूरिन इन्फेक्शन एक आम समस्या है। इसे दूर करने के लिए सरगवा के फूलों की चाय बनाकर पिएं।
स्तनपान कराने वाली महिलाओं को केसर के फूलों का सूखा या काढ़ा पीना चाहिए।
इम्युनिटी बढ़ाने के लिए ज्वार को जड़ी-बूटी, चाय या आहार में किसी भी तरह से इस्तेमाल करें।
सरगवा के फूल वजन घटाने में भी मदद करते हैं।
सरगवा के फूल खाने से बाल झड़ना बंद हो जाते हैं।
सरगवा के पत्ते भी लाभकारी होते हैं

सरगावा की पत्तियों में एस्कॉर्बिक एसिड, फोलिक एसिड और फेनोलिक के अलावा प्रोटीन, बीटा-कैरोटीन, पोटैशियम और एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो कई बीमारियों को दूर करते हैं।
सरगावा की पत्ती के अर्क में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो मधुमेह के लक्षणों को कम करने और इंसुलिन के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करते हैं, जिससे मधुमेह के रोगियों को लाभ होता है।
सरगावा की पत्तियों का उपयोग कैंसर के लक्षणों को कम करने के लिए भी किया जा सकता है।
ऐसा नहीं है कि सरगवा फायदेमंद है, यह हानिकारक भी है

जिन लोगों को लो बीपी की समस्या होती है उनके लिए सरगवा हानिकारक होता है।
गर्भावस्था और पीरियड्स के दौरान सरगवा से बचना चाहिए। गर्भावस्था के दौरान केसर खाने से गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है।
व्यसन मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है, जिससे चिंता और अवसाद जैसी समस्याएं पैदा होती हैं।
जिन लोगों को ब्लीडिंग डिसऑर्डर की समस्या है उन्हें सरगन के सेवन से बचना चाहिए।
प्रसव के तुरंत बाद ज्वार का सेवन नहीं करना चाहिए। सहवास के तुरंत बाद ज्वार के बीज, ज्वार की छाल आदि का प्रयोग हानिकारक होता है। बिना चूके डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles