Wednesday, May 22, 2024

होली में करें राशि स्वामी को प्रसन्न; वृष- तुला राशि वाले शिवलिंग पर पीला गुलाल और शनि देव को नीला गुलाल अर्पित करें

आज यानी 7 मार्च और कल यानी 8 मार्च को पंचांग भेद के कारण धुलेटी दो दिनों तक मनाई जाएगी. इस दिन धुलेटी बजाने से पहले भगवान को गुलाल चढ़ाने की परंपरा है। यह परंपरा प्राचीन काल से चली आ रही है। पूजा और भक्ति के लिहाज से भी यह पर्व बेहद खास माना जाता है। इस दिन राशि के अनुसार की गई पूजा से कुंडली के दोष दूर हो सकते हैं।

उज्जैन के ज्योतिषी पं. मनीष शर्मा के अनुसार ज्योतिष में ग्रहों का रंगों से गहरा संबंध है। होली खेलने से पहले आपको अपनी राशि के अनुसार राशि के स्वामी को रंग चढ़ाना चाहिए। जानिए सभी 12 राशियों के लिए शुभ रंग, जो भगवान को चढ़ाया जा सकता है।

मेष-वृश्चिक:इन दोनों राशियों का स्वामी मंगल है। मंगल का रंग लाल है। इसके लिए धुलेटी के दिन सुबह मंगलदेव की मूर्ति की पूजा करें और लाल गुलाल, लाल मसूर की दाल, लाल कपड़ा, लाल फूल अर्पित करें। यदि मंगलदेव की मूर्ति न हो तो शिवलिंग पर लाल गुलाल भी चढ़ा सकते हैं, क्योंकि इस ग्रह की पूजा शिवलिंग के रूप में की जाती है।

वृष-तुला:शुक्र इन दोनों राशियों के स्वामी हैं। शुक्र सबसे चमकीला ग्रह है। होली के दिन शुक्र ग्रह को पीला या सफेद गुलाल चढ़ाने का महत्व है। शिवलिंग पर पीले-सफेद गुलाल भी चढ़ा सकते हैं।

मिथुन-कन्या:इन दोनों राशियों का स्वामी बुध है। बुध ग्रह का रंग हरा है। बुध की पूजा करें और हरा गुलाल अर्पित करें। इसलिए इस दिन गणेश जी की पूजा करने से बुध ग्रह के दोष भी दूर होते हैं। भगवान गणेश की पूजा करें और दूर्वा चढ़ाएं।

कर्क:इस राशि का स्वामी चंद्रमा है। चंद्र ग्रह का रंग सफेद होता है। शिव की पूजा करने से इस ग्रह का दोष दूर हो सकता है। इस दिन शिवलिंग पर जल और दूध चढ़ाएं और सफेद गुलाल, अबील चढ़ाएं।

सिंह::यह राशि सूर्य ग्रह से संबंधित है। दिन की शुरुआत सूर्य देव को जल चढ़ाकर करें। सूर्य देव को लाल, पीला और केसरिया गुलाल अर्पित करें। आप इन रंगों के गुलाल को पानी में डालकर सूर्य को अर्घ्य दे सकते हैं।

धनु- मीन:इस राशि के स्वामी बृहस्पति हैं। इस राशि के लोगों को शिवलिंग पर पीला रंग चढ़ाना चाहिए। इस ग्रह की पूजा शिवलिंग के रूप में भी की जाती है।

मकर- कुंभ राशि::इन राशियों के स्वामी शनि हैं। शनिदेव को नीला रंग विशेष रूप से प्रिय है, इसे नीलवर्ण भी कहा जाता है, इसलिए शनिदेव को नीला गुलाल चढ़ाएं और तेल से अभिषेक करें।

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles