Wednesday, February 28, 2024

तन में गेहूं, सूरजमुखी की फसल का सोड़ा निकला, धरतीपुत्र बोले- सरकार मदद करे तो बेहतर होगा, बेचारा किसान इसमें कुछ नहीं कर सकता…

कल जसदान पंथक में आधा से डेढ़ इंच बेमौसम बारिश हुई। मावठा ने गर्मी की शुरुआत में ही बिस्तर बदल लिया है। अब रबी की फसल तैयार है और किसान इसकी कटाई कर रहे हैं। लेकिन कल तेज हवाओं के साथ हुई भारी बारिश ने गेहूं और सूरजमुखी की फसल को बर्बाद कर दिया है. बेमौसम बारिश के चलते विश्व नेता ने कहा कि सरकार मदद करे तो बेहतर होगा, नहीं तो गरीब किसान कुछ नहीं कर सकते.

कल:
जसदण, अटकोट, जांगवाड़, वीरनगर, पंचवाड़ा, जीवापार, वीरनगर, संथाली, शिवराजपुर, लीलापुर सहित अन्य गांवों में भारी बारिश के साथ मिनी तूफान आया था. जसदण शहर व ग्रामीण क्षेत्रों में गर्जना के साथ झमाझम बारिश हुई। जसदण के ग्रामीण क्षेत्रों में भारी बारिश से खड़ी फसलों को नुकसान पहुंचा है. कपास, जीरा, ईसबगुल की खड़ी फसलों की सूद मोड़ दी गई है।

सरकार को हमारी तरफ देखना चाहिए और हमारी मदद करनी चाहिए मेरी चार बीघा गेहूं की फसल जलभराव के कारण खराब हो गई है। एक बार सरकार की तरफ से सर्वे करने आए। लेकिन अभी तक कोई संदेश या सूचना नहीं दी गई है। बारिश का अभी भी अनुमान है। अगर सरकार इसमें हमारी तरफ देखे और कुछ मदद करे तो किसानों को कुछ फायदा होगा। नहीं तो मुंह फाड़ दिया जाएगा। बेचारा किसान इसमें कुछ नहीं कर सकता।

यहां तक ​​कि बोए गए गेहूं के खेत भी भीग गए।
यहां तक ​​कि बोए गए गेहूं के खेत भी भीग गए।
उम्मीद थी कि इस साल अनाज खाने योग्य हो जाएगा लेकिन…
जसदन पंथक के एक अन्य किसान मंजीभाई ने कहा, मैंने चार बीघा गेहूं लगाया था। यह दूसरी बारिश है और दूसरी बार बोए गए गेहूं के खेत भीग गए हैं। इससे गेहूं में पानी सिकुड़ गया है। गेहूं के धान पर चार बीघे में सूरजमुखी भी लगा था और वह भी अंकुरित हो गया है। इस बार तो यह था कि चार बीघे गेहूं की खपत हो जाए तो अन्न खाने योग्य हो जाएगा। बारिश से पहले थ्रेशर आ जाना था, लेकिन बारिश से गेहूं की पूरी फसल भीग गई है। इसमें सरकार से कुछ मदद मिलने की उम्मीद है।

जेतपुर बाजार अहाते में मिर्च से भरी बाल्टी बारिश में भीग गई।
जेतपुर बाजार अहाते में मिर्च से भरी बाल्टी बारिश में भीग गई।
जेतपुर प्रांगण में भीगी गेहूं, चना व मिर्च की फसल
उधर, जेतपुर में भी तेज हवा व वज्रपात के साथ बारिश हुई. इससे जेतपुर विपणन प्रांगण में खुले में पड़ी गेहूं, धनिया, मिर्च आदि फसल भीग गई। गेहूं और धनिया की फसल को मध्यम नुकसान हुआ है जबकि मिर्च भीगने से ज्यादा नुकसान हुआ है। मौसम विभाग की भविष्यवाणी के बावजूद अहाते ने खुले मैदान में मिर्च की फसल काटने को कहा।

धनिया भरी गुठली भी भीगी हुई थी।
धनिया भरी गुठली भी भीगी हुई थी।
कल दोपहर जसदण तालुका में सड़क पर बहती नदी
से मौसम में बदलाव आया । अचानक हुई बिजली व बिजली गिरने से सड़कों पर भी पानी भर गया। जसदण बाजार प्रांगण में बहती नदी के भी दर्शन हुए।

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles