Wednesday, February 28, 2024

रमजान के रोजे में इन बातों का रखें खास ध्यान नहीं रहेगा टूटने का डर…

रमजान का पवित्र महीना पूरा होने के बाद ईद का त्योहार मनाया जाएगा। इस महीने में लोग न सिर्फ रोजा रखते हैं बल्कि सच्चे मन से अल्लाह की इबादत भी करते हैं। उत्तर प्रदेश के डासना स्थित जामिया सबीरूर रशद मदरसा के निदेशक मौलाना अशरफ का कहना है कि रमजान का महीना बरकतों से भरा होता है.

मौलाना अशरफ ने कहा कि इस महीने में अल्लाह सभी गुनाहों को माफ कर देता है और फरिश्तों को हुक्म देता है कि रोजे रखने वालों की दुआ कुबूल करें और अमीन कहें। उपवास करने वाले व्यक्ति को अल्लाह उसके पिछले सभी पापों के लिए क्षमा कर देगा। उन्होंने कहा कि मुसलमानों को चाहिए कि इस महीने में गरीबों और मजलूमों पर विशेष ध्यान दें और दान दें।

हालांकि व्रत रखने वालों को कई बातों का ध्यान रखना पड़ता है। कई बार एक छोटी सी गलती से भी रोजा टूट जाता है, इसलिए जरूरी है कि सहरी से लेकर इफ्तार तक का समय इन बातों का ध्यान रखते हुए बिताया जाए।

इसे छोटी-छोटी गलतियों से तोड़ा जा सकता है।रोजा :
मौलाना अशरफ बताते हैं कि रोजा मकरूह यानी तोड़ने के कई कारण हो सकते हैं। जिसमें आंखें भी एक अहम चीज होती हैं। यानी रोजा रखने के बाद अगर रोजेदार किसी को गलत नजर से देखे तो रोजा मकरूह हो सकता है। इसके अलावा पीठ पीछे झूठ बोलने या बुरे काम करने से भी रोजा टूट सकता है।

जो लोग सहरी के बाद या इफ्तार से पहले जानबूझकर कुछ भी खाते हैं, वे भी अपना रोजा तोड़ सकते हैं। साथ ही अगर रोजेदार के दांतों में खाना फंस जाए और वह उसे निगल जाए तो यह भी रोजेदार मकरूह कर सकता है। वहीं किसी को गाली देना,

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles