Monday, May 20, 2024

क्या अब मनुष्य मृत्यु को जीत पाएगा वैज्ञानिकों को रिवर्स एजिंग में मिली पहली सफलता…

जब भी हम अमरता के बारे में सोचते हैं तो यह एक साइंस फिक्शन फिल्म की तरह लगता है। यदि आप पैदा हुए हैं, तो आप भी मरेंगे। यह सभी जानते हैं। वैज्ञानिकों को छोड़कर। अंतरराष्ट्रीय गैर-लाभकारी संगठन ह्यूमैनिटी प्लस के वैज्ञानिक डॉ. जोस कोर्डेइरो का दावा है कि कुछ सालों के बाद हो सकता है कि हमने अमरता का रहस्य खोज लिया हो। उनके अनुसार वर्ष 20230 में रहने वाले लोग अपनी आयु वर्ष दर वर्ष बढ़ा सकेंगे और 2045 के बाद वैज्ञानिक समुदाय लोगों को अमर बनाना शुरू कर देगा।

चूंकि औसत उम्र धीरे-धीरे दोगुनी हो गई है,:
यह कैसे होगा, इस बारे में वैज्ञानिकों ने कुछ नहीं कहा है, लेकिन रोबोटिक्स और एआई की मदद ली जा सकती है। उनकी सहायता से आयु बढ़ेगी और एक समय ऐसा आयेगा जब मनुष्य सदियों तक जीवित रह सकेगा। डॉ. कोर्डेइरो ने इस पर तर्क देते हुए कहा कि पहले औसत आयु कम थी लेकिन अब यह बढ़ गई है। वर्ष 1881 के आसपास भारत में औसत जीवन प्रत्याशा केवल 25.4 वर्ष थी। वहीं, 2019 में यह बढ़कर 69.7 साल हो गई। इस फॉर्मूले पर डीएनए एजिंग को रिवर्स एजिंग में बदल दिया जाएगा।

रिवर्स एजिंग में सफलता डॉ. कोर्डेरो के इस दावे के पीछे पहला कदम था कि हार्वर्ड और बोस्टन की प्रयोगशालाओं में अनुसंधान ने पुराने चूहों की उम्र को उलट दिया और उन्हें युवा बना दिया। यानी उम्र मंद दृष्टि भी सामान्य हो गई। हार्वर्ड मेडिकल स्कूल और बोस्टन यूनिवर्सिटी के इस संयुक्त शोध को साइंटिफिक जर्नल सेल में जगह मिली है। इस बारे में शोधकर्ता डेविड सिंक्लेयर ने साफ तौर पर कहा कि उम्र बढ़ना एक रिवर्सिबल प्रोसेस है। जिसमें हेरफेर किया जा सकता है।

बूढ़े को जवान और जवान को बूढ़ा बनाया जा सकता है!:
वैज्ञानिक पत्रिका सेल में प्रकाशित इस शोध का शीर्षक है- ‘लॉस ऑफ एपिजेनेटिक इंफॉर्मेशन एज ए कॉज ऑफ मैमेलियन एजिंग’। चूहों पर किए गए इस प्रयोगशाला प्रयोग ने स्पष्ट रूप से दिखाया कि उम्र बढ़ने को पीछे धकेला जा सकता है और कायाकल्प किया जा सकता है। एक आश्चर्यजनक बात यह भी देखने को मिली कि धार को न सिर्फ पीछे धकेला जाता है बल्कि आगे भी बढ़ाया जा सकता है। यानी समय से पहले किसी को बूढ़ा या बूढ़ा बनाना।

अनुसंधान इस अवधारणा पर शुरू हुआ कि शरीर अपने यौवन की एक बैकअप प्रति रखता है। यदि यह प्रतिलिपि ट्रिगर की जाती है, तो कोशिकाएं पुन: उत्पन्न होने लगेंगी और आयु उलट दी जाएगी। प्रयोग ने इस धारणा को खारिज कर दिया कि उम्र बढ़ने आनुवंशिक उत्परिवर्तन का परिणाम है जो डीएनए को कमजोर करता है या कमजोर कोशिकाएं समय के साथ शरीर को कमजोर करती हैं। लगभग साल भर के अध्ययन में, मानव वयस्क त्वचा कोशिकाओं को पुराने और दृष्टिबाधित चूहों में इंजेक्ट किया गया, जिससे कुछ ही दिनों में उनकी दृष्टि बहाल हो गई। इसके बाद, मस्तिष्क, मांसपेशियों और गुर्दे की कोशिकाओं को भी पहले, अधिक युवा उम्र में पहुंचाया जा सकता था।

साल 2022 के अप्रैल महीने में भी कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने ऐसा ही भ्रमित करने वाला काम किया था। उनका दावा साफ था कि एक खास तरीके से उम्र को 30 साल पीछे ले जाया जा सकता है। अनुसंधान के लिए, त्वचा की कोशिकाओं को समय पर वापस जाने के लिए पुन: क्रमादेशित किया गया। उम्र बढ़ने वाली कोशिकाओं में कोलेजन उत्पन्न करने की क्षमता बढ़ जाती है। यह वह प्रोटीन है जो शरीर को मजबूत और युवा बनाता है। मानव कोशिकाओं के बहु-ओमिक कायाकल्प नामक शोध, ईलाइफ पत्रिका में प्रकाशित हुआ था। अनुसंधान के बारे में अधिक जानकारी सार्वजनिक डोमेन में नहीं है क्योंकि यह कुछ लोगों के साथ हुई है।

शरीर को डीप फ्रोजेन किया जा रहा है।वर्तमान:
में दुनिया के कई देशों में अरबपति इस उल्टी धार के जरिए अमरता पाने के लिए पानी की तरह पैसा बहा रहे हैं, यहां तक ​​कि उनके शरीर को भी प्रयोगशालाओं में संरक्षित किया जा रहा है ताकि मरे हुए लोगों को वापस जीवन में लाया जा सके। अमरता का सूत्र खोज लेने के बाद… इसे क्रायोनिक्स कहते हैं। अलग-अलग जगहों पर दावा किया जा रहा है कि दुनिया में करीब 600 लोगों की लाशें जमा कर रखी गई हैं.

क्या है क्रायोनिक्स में:
यह काम कई निजी कंपनियां करती हैं। जैसे ही कोई व्यक्ति मरता है, क्रायोनिक्स विशेषज्ञ यह सुनिश्चित करते हैं कि उनके शरीर को मस्तिष्क को ऑक्सीजन और रक्त प्राप्त होता रहे। पानी को तब शरीर की कोशिकाओं से निकाल दिया जाता है और एक रसायन के साथ बदल दिया जाता है। इसके बाद इसे -130 डिग्री के तापमान पर रखा जाता है। क्रायोनिक्स के तहत शरीर के अलग-अलग हिस्सों को संरक्षित करने का चार्ज भी बदला जाता है। इस प्रकार यदि वैज्ञानिक वर्ष 2045 में अमरता का दावा कर रहे हैं तो अब से लेकर अब तक यदि कोई शरीर को संरक्षित करता है तो इसमें लगभग डेढ़ करोड़ रुपये खर्च होंगे। फिर सूत्र मिलते ही क्रायोनिक्स विशेषज्ञ हरकत में आ जाएंगे और मड्डू को वापस जीवन में लाया जा सकेगा!

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles