Wednesday, July 17, 2024

आपका बच्चा भी मोबाइल में खूब खेलता है गेम तो उसे न बताएं ये सब बातें, जानिए क्या हैं वो….

क्या आपका बच्चा भी मोबाइल फोन से चिपके रहता है? यानि क्या वह इसमें गेम खेलता है? अगर जवाब हां है तो लेख को अंत तक पढ़िए, हम आपको कुछ ऐसी बातें बताने वाले हैं जिन्हें आपको अपने बच्चों को नहीं बतानी चाहिए. हम ऐसा इसलिए बोल रहे है क्योकि हैदराबाद के अंबरपेट इलाके में रहने वाले एक 16 साल के बच्चे ने अपने मां का बैंक अकाउंट गेम के चलते खाली कर दिया और एक-दो नहीं बल्कि 36 लाख रुपये उड़ा दिए.

कुछ समय पहले चीन से एक ऐसी ही खबर सामने आई थी जहां एक 13 साल की बच्ची ने गेम एडिक्शन के चलते अपनी मां के अकाउंट से 52 लाख रुपये उड़ा दिए थे.

ये गेम किया था डाउनलोड

हैदराबाद के अंबरपेट में रहने वाले 16 साल के बच्चे ने Free Fire नाम का गेम डाउनलोड किया था जो एक पॉपुलर मोबाइल गेम है. इस गेम में आगे बढ़ने के लिए पैसों की जरूरत होती है. जैसे-जैसे कोई यूजर गेम में पैसे इन्वेस्ट करता है तो उसे अच्छे वेपेंस और बढ़िया एक्सपीरियंस मिलता है. 16 साल के बच्चे ने शुरुआत में 1,500 और फिर 10 हजार रुपये गेम में इन्वेस्ट किए. जैसे-जैसे उसे गेम की आदत लग गई तो उसने मां के अकाउंट से 36 लाख रुपये गायब कर दिए.

आप इन बातों का रखें ध्यान

-कभी भी अपने बच्चों को UPI Pin न बताएं. पिन पता होने की स्थिति में बच्चा कुछ भी गलत ऑनलाइन कर सकता है. यहां तक की आपका बैंक अकाउंट
हैक हो सकता है. बच्चों को इंटरनेट की ज्यादा जानकारी नहीं होती और वे किसी भी सस्पीशियस लिंक या मैसेज पर क्लिक कर देते हैं.

-हमेशा फोन में पासवर्ड लगाकर रखें. यदि आप अपने बच्चे को फोन देते हैं तो बैंकिंग से जुड़े ऐप्स को एकदम सिक्योर करके रखें.

-बच्चों को भी ऑनलाइन हो रही गतिविधियों के बारे में जानकारी दें ताकि वे भी चीजे को समझ पाएं.

-बच्चों के गेमिंग टाइम को लिमिट करें और ऐसे गेम उन्हें न खेलने दें जिसमें पैसे की बात कही होती है.

-छोटी उम्र से किसी भी चीज का एडिक्शन बच्चे के लिए सही नहीं है. ये आगे चलकर उनके स्वास्थ्य और आपके लिए परेशानी खड़ी कर सकता है. हमारी सलाह ये है कि आप बच्चों को माइंड गेम्स और फिजिकल गेमों की तरफ लेकर जाएं जो उनके स्वास्थ्य और मेन्टल हेल्थ के लिए अच्छा है.

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles