Thursday, May 23, 2024

क्रिकेट की नियम बनाने वाली संस्था का कहना है कि टी20 लीग का असर छोटी टीमों पर पड़ रहा है..

क्रिकेट की नियम बनाने वाली संस्था एमसीसी यानी मैरीलेबोन क्रिकेट क्लब ने आईसीसी से क्रिकेट को बचाने की अपील की है. एमसीसी की डब्ल्यूसीसी शाखा विश्व क्रिकेट समिति ने कहा कि दुनिया भर में टी20 लीगों की संख्या बढ़ने से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट पर इसका असर पड़ रहा है. लीग के अलावा केवल भारत, दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया ही अपने तरीके से टेस्ट क्रिकेट खेलते हैं। लेकिन साल के दौरान लीग के कारण अफगानिस्तान, आयरलैंड और जिम्बाब्वे जैसी छोटी टीमों को बड़ी टीमों के खिलाफ टेस्ट खेलने का मौका नहीं मिलता है. इस वजह से टीमों के बीच दूरियां बढ़ती जा रही हैं और आईसीसी को दौरे की योजना बनाने में दिक्कत आ रही है.’

एमसीसी क्या है?: एमसीसी क्रिकेट के नियम बनाता है और समय-समय पर बदलाव करता है। मैरीलेबोन क्रिकेट क्लब वर्ष 1787 में अस्तित्व में आया। इसका मुख्यालय इंग्लैंड के लॉर्ड्स ग्राउंड में है। ICC के आगमन से पहले, क्रिकेट केवल MCC के नियमों पर खेला जाता था। ICC अभी भी MCC के नियमों का पालन करता है। एमसीसी अभी भी क्रिकेट के नियम बनाता है, लेकिन यह आईसीसी के माध्यम से जाता है।

दुबई में बुलाई बैठक: एमसीसी ने दुबई में बैठक बुलाई। बैठक में इस बात पर चर्चा हुई कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को कैसे बचाया जाए। हर साल होने वाली तमाम लीगों के बीच अगले 10 साल में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का क्या हाल होगा। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को प्राथमिकता देने के लिए कुछ करना होगा।

आर्थिक रूप से मजबूत- एमसीसी: एमसीसी ने कहा कि आर्थिक रूप से क्रिकेट इस समय इससे बेहतर कभी नहीं रहा। लेकिन, अब आईसीसी देशों को एक साथ आना चाहिए और इस पैसे का इस्तेमाल सबके बीच करना चाहिए और एक-दूसरे की मदद करनी चाहिए और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की बेहतरी के लिए काम करना चाहिए।

महिला क्रिकेट को मिलने लगा सही संतुलन- एमसीसी: एमसीसी ने कहा कि महिला क्रिकेट में अब अच्छा संतुलन है। महिला एफटीपी यानी टूर प्रोग्राम बनाने में आईसीसी को कोई दिक्कत नहीं आ रही है। लेकिन, महिला क्रिकेट में भी खिलाड़ी लीग की तरफ आकर्षित हो रहे हैं, जो चिंता का विषय है.

एमसीसी ने आगे कहा कि महिला क्रिकेट अब पुरुषों के क्रिकेट के बराबर होने लगा है। महिला क्रिकेट को पैसे की कोई चिंता नहीं है।

टेस्ट क्रिकेट सबसे जरूरी- गांगुली: भारत के पूर्व कप्तान और डब्ल्यूसीसी सदस्य सौरव गांगुली ने कहा कि फ्रेंचाइजी क्रिकेट और टेस्ट क्रिकेट के बीच संतुलन बनाए रखना बेहद जरूरी है। मैं अब भी मानता हूं कि टेस्ट क्रिकेट सबसे बड़ा मंच है। यहीं से आपको महान खिलाड़ी मिलते हैं और इसलिए इसे टेस्ट कहा जाता है। यह कौशल की परीक्षा है।

49% खिलाड़ियों के लिए देश से ऊपर की टी20 लीग: अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों की संस्था FICA के एक सर्वे के मुताबिक, 49% क्रिकेटरों ने कहा- वे IPL, BBL जैसी फ्रेंचाइजी लीग खेलने के लिए देश के केंद्रीय अनुबंध को भी खारिज कर देंगे। अगर उन्हें इस लीग में अपने देश से ज्यादा पैसे मिलते हैं तो वे लीग खेलना पसंद करेंगे। हाल ही में न्यूजीलैंड के ट्रेंट बोल्ट ने सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट से अपना नाम वापस ले लिया था, जिसके चलते उन्हें भारत के खिलाफ वनडे और टी20 सीरीज के लिए टीम में शामिल नहीं किया गया था. खराब फॉर्म के कारण बोल्ट के साथी खिलाड़ी मार्टिन गप्टिल को नहीं चुना गया। जिसके बाद वह विदेशी लीग में खेलने गए। इस मानसिकता का असर दूसरे स्टार खिलाड़ियों पर भी देखने को मिला है. जिसका खामियाजा कभी खिलाड़ियों को तो कभी अपने देश को भुगतना पड़ा है.

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles