Tuesday, May 21, 2024

पापमोचनी एकादशी पर करें ये उपाय भगवान विष्णु देंगे आपको धन…

हिंदू धर्म ग्रंथों में एकादशी व्रत का विशेष महत्व है। कहा जाता है कि इस दिन व्रत और पूजा करने से भक्तों को जीवन के कष्टों से मुक्ति मिलती है। चैत्र मास में पड़ने वाली एकादशी को पापमोचिनी एकादशी के नाम से जाना जाता है। इस बार पापमोची एकादशी 18 मार्च, शनिवार को है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस दिन श्री हरि की पूजा के साथ-साथ शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए कुछ ज्योतिषीय उपाय भी करने चाहिए। माना जाता है कि यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में शनि अशुभ स्थिति में बैठा है तो आज यानी 18 मार्च को पापमोचिनी एकादशी के दिन ये उपाय करने से व्यक्ति को शीघ्र राहत मिलती है।

पापमोचनी एकादशी के दिन करें यह उपाय::

– ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए शनिवार के दिन बंदरों को भुने हुए चने खिलाएं। काले कुत्ते को भी मीठी
रोटी पर तेल लगाकर खिलाएं।
– यदि किसी की कुंडली में शनि अनिष्ट स्थिति में हो तो शनिवार एकादशी के दिन मांस-मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए।
– साथ ही शनिवार के दिन काला धागा लेकर उसकी माला बनाकर गले में धारण करें लाभ होगा.
– ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पापमोचिनी एकादशी के दिन शमी के पौधे के पास आटे का दीपक जलाएं और इस दौरान दीपक में कपूर
और हल्दी डालें।
– पीपला के पेड़ पर कच्चा दूध चढ़ाने और शनिवार को सूर्योदय से पहले कड़वे तेल का दीपक जलाने से शुभ फल मिलते हैं।
– अगर कुंडली में शनि की दशा कमजोर है तो शनि के दुष्प्रभाव से बचने के लिए शनिवार के दिन काली गाय की सेवा करें और गौ
माता को रोटी खिलाएं।
– पापमोचिनी एकादशी के दिन श्री हरि, शनि और शनि स्तोत्र के विशेष मंत्रों का पाठ करने से विशेष लाभ मिलता है।
– यदि आप शनि की साढ़ेसाती से परेशान हैं तो शनिवार की एकादशी को अंधेरा होने के बाद पीपला के पेड़ पर जल चढ़ाएं। सरसों के
तेल का दीपक जलाएं, अगरबत्ती जलाएं और वहां बैठकर हनुमान चालीसा, शनि चालीसा का जाप करें। इसके बाद पीपल वृक्ष की 7
परिक्रमा करें।
– पापमोचिनी एकादशी के दिन किसी पीपल के पेड़ की जड़ में दूध चढ़ाएं। एक तेल का दीपक जलाएं और उसे पश्चिम दिशा में जलाएं।
– इस दिन मंत्र- ‘ॐ शं शनैश्चराय नमः’ का जाप करें. साथ ही मंत्र पढ़ते हुए प्रत्येक परिक्रमा पर मीठी नुक्ति का 1-1 दाना चढ़ाएं।
ऐसे ही आपको कम से कम 11 चक्कर लगाने हैं। इसके बाद हाथ जोड़कर भगवान शनिदेव से प्रार्थना करें।

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles