Wednesday, February 28, 2024

नौकरी से निकलिए सिर दर्द! इस मद की खेती आपको मालामाल कर देगी…

एक बार पौधा लग जाने के बाद, उसमें से निकलने वाले छोटे पौधे को दूसरी जगह पर ट्रांसप्लांट किया जा सकता है और इस तरह अपने पौधों की संख्या में वृद्धि की जा सकती है। कृषि विशेषज्ञों के अनुसार एलोवेरा का पौधा 3 से 4 महीने में बेबी प्लांट देता है। अगर एक एकड़ में एलोवेरा की खेती की जाए तो हर साल करीब 20 हजार किलो एलोवेरा का उत्पादन होता है। ताजा एलोवेरा के पत्तों का विक्रय मूल्य 5 से 6 रुपये प्रति किलोग्राम है।

घरेलू और अंतरराष्ट्रीय बाजार में एलोवेरा की डिमांड काफी ज्यादा है। इसका एक बड़ा कारण इसका उपयोग है। एलोवेरा का उपयोग चिकित्सा और कॉस्मेटिक उत्पादों में किया जाता है। फिर इसकी खेती की जाए तो अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है। एलोवेरा की खेती की सबसे अच्छी बात यह है कि इसमें केवल एक बार के निवेश की आवश्यकता होती है और आप इस पौधे से 5 साल तक लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

एलोवेरा की खेती के लिए सबसे जरूरी बात यह है कि खेत में ज्यादा नमी नहीं होनी चाहिए और खेत में पानी जमा नहीं होना चाहिए। एलोवेरा के लिए रेतीली मिट्टी सबसे उपयुक्त मानी जाती है। एलोवेरा की कई प्रजातियां हैं, जिनमें नील सबसे आम है और आमतौर पर घरों में पाया जाता है। लेकिन एलोवेरा की बारबाडेंसिस प्रजाति बहुत लोकप्रिय है।

एक बीघा खेत में किसान एलोवेरा के 12 हजार पौधे लगा सकते हैं। खेती के लिए लगाए गए पौधों की कीमत 3 से 5 रुपए तक है। एलोवेरा का एक पौधा 3.5 किलो तक पत्तियां देता है और इसकी कीमत 5 से 6 रुपए प्रति किलो के बीच होती है। हालांकि, औसतन पौधे की एक पत्ती 18 रुपये तक बिकती है।

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles