Wednesday, February 28, 2024

चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में कंपनियां आपूर्ति कम करने के लिए कीमतें बढ़ाती हैं, मुनाफा बढ़ाने का एक तरीका…

विश्व स्तर पर ज्यादातर कंपनियां आपूर्ति श्रृंखला में व्यवधान के कारण मांग के मुकाबले कमजोर उत्पादन या कम उत्पादन की रिपोर्ट करती हैं, जिससे कीमतों में बढ़ोतरी होती है। जरूरी नहीं कि ऐसी रिपोर्ट से आपूर्ति घटे। वास्तव में कंपनियां ऐसी चुनौतियों का इस्तेमाल उत्पादों और सेवाओं की कीमतें बढ़ाने के बहाने के रूप में करती हैं। मुनाफा बढ़ाने का यह सबसे आसान तरीका है, कम से कम खासकर अमेरिका में तो ऐसा ही है। व्यापार के इस तरीके को ‘बहिष्कार’ कहा जाता है। न केवल अमेरिका में बल्कि दुनिया के अन्य देशों में भी स्थिति समान है और ऐसे मामलों में आम वर्ग को सबसे बड़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है जिसका अर्थव्यवस्था पर भी बहुत गंभीर प्रभाव पड़ता है।

ऑड लॉट्स पोडकास्ट के हालिया एपिसोड में कॉर्बू एलएलसी के एमडी सैमुअल राइन्स ने कहा, ‘पहले कोविड महामारी और फिर यूक्रेन युद्ध में एक अलग ट्रेंड देखा गया। ये घटनाएं कई कंपनियों के लिए कीमतें बढ़ाने का दुर्लभ बहाना बन गईं। उन्होंने तुरंत इस बात की जांच शुरू कर दी कि लोग किस हद तक बढ़ी हुई कीमतों का भुगतान करने को तैयार हैं। उन्होंने कहा कि एक बार जब कंपनियों को यह अहसास हो जाता है कि लोग ज्यादा कीमत चुकाने को तैयार हैं तो वे तेजी से मार्जिन बढ़ाना शुरू कर देती हैं।

वर्षों से, कॉर्पोरेट जगत महामारी और यूक्रेन युद्ध जैसी स्थितियों के प्रभाव का अनुमान लगाने में सक्षम रहा है। इन घटनाओं का सेमीकंडक्टर उत्पादन से लेकर कमोडिटी मार्केट तक हर चीज पर गहरा प्रभाव पड़ा। शिपिंग रुक गई और कीमतें आसमान छू गईं। राइन्स के अनुसार, यह उन कंपनियों के लिए मूल्य वृद्धि के लिए उर्वर जमीन बनाता है जो ऐसे अवसरों का लाभ उठाने को तैयार हैं।

इनमें पेप्सिको और होम डिपो जैसी कंपनियां शामिल हैं। ऐसी खुदरा कंपनियों ने भी रियायती कीमतों के लिए जानी जाने वाली स्थिति का लाभ उठाया। इसमें वॉलमार्ट और डॉलर ट्री जैसी कंपनियां भी शामिल हैं।

ब्याज दरें बढ़ाने से महंगाई कम नहीं होती पूर्व महंगाई कई गंभीर सवाल खड़े करती है। पहला, अमेरिका जैसी अर्थव्यवस्था, जहां लोग बेहिसाब खर्च करने के लिए जाने जाते हैं, कीमतों को बढ़ाने के लिए कितना नुकसान कर सकती है। एक अन्य प्रश्न यह है कि कॉरपोरेट्स को कीमतों में कटौती करने के लिए प्रेरित करने या मजबूर करने के लिए ब्याज दरों को किस स्तर तक बढ़ाया जाना चाहिए। या कम से कम दरें बढ़ाना बंद कर दें। दरअसल ब्याज दरें बढ़ाने का ज्यादा असर नहीं होता है। अमेरिका में मुद्रास्फीति अभी भी 6% से ऊपर है, फेडरल रिजर्व के 2% के लक्ष्य से काफी ऊपर है। इसके बजाय, विश्लेषकों का कहना है, मूल्य निर्धारण के मामले में कॉरपोरेट्स पर कार्रवाई अधिक प्रभावी साबित हो सकती है।

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles