Tuesday, May 21, 2024

गुजरात के इस शहर में प्रतिद्वंद्वी सूरत को मेगा टेक्सटाइल पार्क बनाया जाएगा….

मफतलाल समूह की वजह से कपड़ा उद्योग के क्षेत्र में कभी नवसारी का नाम राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा में आया था। बाद में सूरत ने नवसारी को पीछे छोड़ते हुए वह मुकाम हासिल किया। सूरत ने राष्ट्रीय ही नहीं बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपना नाम बनाया।
सूरत को टेक्सटाइल सिटी, सिल्क सिटी के नाम से जाना जाता है। लेकिन अब सालों बाद एक बार फिर नवसारी का नाम टेक्सटाइल इंडस्ट्री को लेकर चर्चा में है। केंद्र सरकार ने पिछले बजट में देश भर में बनने वाले शाम 7 बजे मित्र पार्कों में नवसारी को भी शामिल किया है. हाल ही में इसके नोटिफिकेशन के बाद इसे तैयार करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। पीएम मित्र योजना के तहत नवसारी के पास वंशी बोरसी में 1142 एकड़ भूमि पर मेगा टेक्सटाइल पार्क का निर्माण किया जाएगा।

यहां कपड़ा व्यापार से जुड़ी सभी गतिविधियां एक सीमा के भीतर मौजूद रहेंगी। इसमें कताई से लेकर बुनाई, रंगाई, छपाई, बनावट, पैकेजिंग, मूल्यवर्धन, तकनीकी वस्त्र, मशीनरी निर्माण आदि सब कुछ शामिल होगा। इससे करीब रु. 15,000 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा और 50,000 से अधिक लोगों के लिए रोजगार के अवसर पैदा होंगे। केंद्र सरकार द्वारा सीआईएस के रूप में 300 करोड़ रुपये दिए जाएंगे।

सूरत के कपड़ा उद्योगों को मिलेगा बढ़ावासूरत में:
प्रतिदिन 50 मिलियन मीटर कपड़े का उत्पादन होता है। यहां तैयार माल का सालाना 50 हजार से 60 हजार करोड़ का कारोबार होता है। बुनाई और कताई के सालाना कारोबार को जोड़ दिया जाए तो यह एक लाख करोड़ रुपए को पार कर जाएगा। नवसारी में पीएम मित्रा पार्क का आगमन उन व्यापारियों के लिए एक सुनहरा अवसर होगा जो अपने कपड़ा व्यवसाय का विस्तार करना चाहते हैं। एक परिसर में पूरे उद्योग होंगे। सूरत में व्यापार की मुख्य समस्या हर मौसम में मजदूरों की उपलब्धता है। यह समस्या भी दूर हो जाएगी। यहां मजदूरों के लिए घर भी बनाया जाएगा।

कपड़ा उद्योग के लिए प्रोत्साहन नीति:
केंद्रीय कपड़ा राज्य मंत्री दर्शन जरदोश का कहना है कि सरकार ने देश के सर्वांगीण विकास के लिए सभी उद्योगों के लिए प्रोत्साहन नीति बनाई है। फाइबर से फैक्ट्री से फैशन से विदेश तक के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विजन को साकार किया जाएगा। केंद्र और राज्य सरकारों की दूरदर्शिता से निवेश और रोजगार में भी भारी बढ़ोतरी होगी।

साउथ गुजरात टेक्सटाइल ट्रेडर्स एसोसिएशन (एसजीटीटीए) के संस्थापक अध्यक्ष सांवर प्रसाद बुधिया का कहना है कि सूरत के टेक्सटाइल उद्योग के लिए बहुत अच्छी योजनाएं हैं। यहां मानव निर्मित कपड़े अधिक लोकप्रिय हैं। सरकार ने इस पीएम मित्र पार्क में कॉमन फैसिलिटी की योजना बनाई है। तो कॉमन बॉयलर, कॉमन ट्रीटमेंट प्लांट, ड्रेनेज आदि कॉमन होंगे। बिजली सस्ती करने की भी योजना है, ताकि उत्पादन लागत में कमी लाई जा सके। निर्यात के बड़े अवसर होंगे।

साउथ गुजरात चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज (एसजीसीसीआई), सूरत के सलाहकार (कपड़ा व्यापार समिति) देवकिशन मंघानी का कहना है कि पीएम मित्रा पार्क की वजह से दक्षिण गुजरात कपड़ा कारोबार का बड़ा हब बन जाएगा. सभी इकाइयों को एक स्थान पर रखने से निर्यात को बढ़ावा मिलेगा। वर्तमान में देश भर से व्यापारी सूरत आते हैं, लेकिन जब पार्क चालू हो जाएगा तो यह अंतरराष्ट्रीय व्यापार का केंद्र बन जाएगा। इसके बाद सूरत एयरपोर्ट को अंतरराष्ट्रीय बनाने की जरूरत होगी।

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles