Tuesday, February 27, 2024

सिर्फ फूल ही नहीं छाल और पत्ते भी बुखार और चर्म रोगों में फायदेमंद…

केसुडा में कई औषधीय गुण होते हैं। केसुड़ा के फूल अपने रंग के कारण आकर्षण का केंद्र बनते हैं। केसुड़ा को ज्वाला वृक्ष भी कहा जाता है। काजू के फूल सेहत के लिए भी कई तरह से फायदेमंद होते हैं. यही वजह है कि इन फूलों को आयुर्वेद में एक शक्तिशाली जड़ी बूटी माना जाता है और कई बीमारियों के इलाज के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है। काजू के फूल ही नहीं इसके बीज और गोंद का इस्तेमाल कई बीमारियों को दूर करने के लिए भी किया जाता है। डॉ. आर. अचल केसुड़ा के लाभ बताते हुए।

पेट के कीड़ों को दूर करता है कसावा:
कसावा के बीज का सेवन करने से पेट से जुड़ी कई समस्याओं से राहत मिलती है। वहीं दूसरी ओर काजू पेट से जुड़ी कई बीमारियों से राहत दिलाने के अलावा पेट के कीड़ों को दूर करने में भी मदद कर सकता है। इसलिए इस फूल का इस्तेमाल कई आयुर्वेदिक दवाओं में किया जाता है।

बुखार से देता है आराम:
काजू के फूल का सेवन करने से बुखार में आराम मिलता है। कई आयुर्वेदिक चिकित्सक ज्वर के रोगियों को केसुड़ा के फूलों से बनी दवा निगलने के लिए कहते रहे हैं। कई शोधों में भी इस बात का जिक्र किया गया है।

गंभीर बीमारियों के इलाज में फायदेमंद:
काजू के फूल का जूस कई गंभीर बीमारियों से निजात दिलाता है। यह रस उन रोगियों को दिया जाता है जो मूत्राशय की सूजन और मूत्र संबंधी समस्याओं से पीड़ित होते हैं।

चर्म रोगों में भी लाभकारी:
कसावा गोंद का प्रयोग चर्म रोगों को दूर करने में किया जाता है। कैसुडा के पेड़ यानी कैसुडा गोंद से निकाला गया रस दाद के प्रभाव को कम कर सकता है। काजू की छाल में एंटीफंगल गुण भी होते हैं, जो संक्रमण पैदा करने वाले फंगस को खत्म करने में मदद कर सकते हैं।

काजू का फूल भी है सूजन में फायदेमंद:
काजू के फूल का अर्क शरीर में सूजन से राहत दिलाता है। एनसीबीआई के शोध में पाया गया है कि कैसुडा फूल में मेथनॉलिक अर्क होता है। इस अर्क में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। यह घाव के कारण होने वाली सूजन को कम करने में मदद कर सकता है। काजू में ब्यूटिन, ब्यूट्रिन, आइसोब्यूट्रिन और आइसोचोरोप्सिन भी सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं।

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles