Saturday, July 13, 2024

मरे हुए लोगों की कब्र पर बैठकर यहां चाय का मज़ा लेते हैं लोग, 72 साल पुराने रेस्टोरेंट की खासियत जान उड़ जाएंगे होश….

अगर किसी को कब्रों के बगल में बैठकर बेपरवाह होकर खाने और पीने के लिए कहा जाता है, तो वे असहज महसूस करेंगे, लेकिन अहमदाबाद (Ahmedabad) में एक चाय की दुकान ने कुछ ऐसा किया है, जो देख आप भी हैरान रह जाएंगे. अहमदाबाद के लाल दरवाजा में स्थित लकी टी स्टॉल (tea shop)72 वर्षों से चल रहा है. कलाकार एम.एफ. हुसैन (artist MF Husain) अक्सर चाय के इस दुकानपर जाया करते थे. हुसैन ने 1994 में स्टॉल के मालिक को अपनी एक पेंटिंग भी उपहार में दी थी. यह पेंटिंग अभी भी चाय की दुकान की दीवार पर लटकी हुई है

क्लिप शेयर करते हुए, @hungrycruisers ने इसके अनूठे सेट-अप के पीछे की कहानी को संक्षेप में बताया. @hungrycruisers के अनुसार, “रेस्तरां के मालिक कृष्णन कुट्टी ने अहमदाबाद में ये ज़मीन ली थी, और इस बात से अनजान थे कि यह एक कब्रिस्तान था. हालांकि, ये जानने के बाद भी उन्होंने अपने रेस्टोरेंट खोलने के फैसले को नहीं बदला. कब्रों के चारों ओर लोहे की सलाखें लगाने के अलावा कब्रों को अछूता छोड़कर, बाकी जगह में कब्रों के चारों ओर बैठने की जगह बना दी है. हर सुबह, कर्मचारी सभी कब्रों को साफ करते हैं और उन्हें ताजे फूलों से सजाते हैं. जगह धीरे-धीरे बढ़ने लगी और शहर में घूमने की सबसे पसंदीदा जगहों में से एक बन गई. कैप्शन में आगे लिखा है कि यह रेस्टोरेंट, “मरे हुए लोगों का सम्मान करें, जैसा कि आप जीवित लोगों का सम्मान करते हैं” के मोटो पर चलता है.

एक यूजर ने लिखा, “मैं इस जगह पर कई बार गया हूं, यह सिर्फ एक और होटल है, कुछ खास नहीं है, यहां तक ​​कि कब्रों पर किसी का ध्यान नहीं जाता है.”

हालांकि कई लोगों ने कब्र के आसपास खाने को लेकर भी नाराजगी जताई. इस भावना को व्यक्त करते हुए, एक ट्विटर यूजर ने लिखा, “लोग सोच सकते हैं कि यह बहुत अच्छा विचार है लेकिन, यह मेरे हिसाब से सबसे अजीब है…मृतकों का सम्मान करने का मतलब यह नहीं है कि हम कब्र के पास बैठ सकते हैं और खा सकते हैं. हमारी संस्कृति कहती है कि मृत व्यक्ति को शांति चाहिए और शांति तब आती है जब आप कब्र को कुछ जगह देते हैं न कि व्यक्ति को … उस कब्र में खाने के लिए.

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles