Tuesday, May 21, 2024

भावनगर के लोगों ने पानी की समस्या का ऐसा हल निकाला कि पूरा गुजरात उनके पीछे पड़ जाएगा…

भावनगर जिले के सीहोर के लोगों ने पानी की पुरानी समस्या का समाधान निकाला, लीलापीर क्षेत्र के लोगों को 15-20 दिन पीने का पानी मिलता था, पानी लेने के लिए दूर जाना पड़ता था, लेकिन अब यहां के लोग दिन हो या रात कभी भी पानी मिल सकता है।हां, मात्र साढ़े तीन लाख की लागत से उन्होंने अपनी अलग से पानी की लाइन बिछाकर समाज के हर घर में पानी पहुंचाया है और पेयजल की समस्या को बीते दिनों की बात बना दिया है। लोगों को एक नई उम्मीद दी है।

भावनगर राज्य की स्थापना से पहले भावनगर राजघरानों ने सीहोर को अपनी राजधानी बनाया था, और उस समय यह सिंहपुर के नाम से प्रसिद्ध था, रियासतों के समय में यहाँ पानी की बहुत अच्छी व्यवस्था थी, जिससे लोगों को पीने का पानी मिलता था, लेकिन विलय के बाद रियासतों में आधुनिक समय में पीने का पानी नहीं मिल रहा है पानी की समस्या कम होने की बजाय बढ़ती जा रही है जिससे लोग पेयजल की समस्या से जूझ रहे हैं। यहां के लोगों को 10 से 15 दिन में एक बार पीने का पानी मिल पाता है। पेयजल की समस्या को दूर करने के लिए लोगों द्वारा कई बार आंदोलन व प्रदर्शन किए जा चुके हैं, लेकिन यहां का स्थानीय प्रशासन आज तक लोगों की पेयजल समस्या का समाधान नहीं कर पाया है. लेकिन सीहोर के लीलापीर क्षेत्र के लोगों ने अब इस समस्या को बीते दिनों की बात बना दिया है और अपने घरों में पानी पहुंचाकर समस्या का अंत कर दिया है.

भावनगर जिले के सिहोर में कई वर्षों से स्थानीय लोग पेयजल की समस्या से जूझ रहे हैं, स्थानीय लोगों ने कई प्रस्तुतियां दी हैं, आंदोलन भी किए हैं, दूसरी ओर व्यवस्था द्वारा कई प्रयास किए गए हैं कि पानी की समस्या को दूर किया जाए. लोगों को पर्याप्त पानी मिले। लेकिन अभी तक पेयजल की समस्या का समाधान आज तक नहीं हो पाया है। जिससे सिहोर के लोगों को 8 से 10 दिन में एक बार विभिन्न क्षेत्रों के अनुसार पेयजल वितरण किया जाता है। लेकिन आज गांव के लीलापीर क्षेत्र के लोगों ने पेयजल की इस समस्या पर विराम लगा दिया है और लोगों के लिए एक नया भविष्य चिन्हित किया है.

पानी की टंकियां मंगवाने के लिए सालाना हजारों रुपए खर्च करने पड़ते थे और बार-बार जमा करने से लोग तंग आ जाते थे। अंत में समाज के निवासियों ने पानी की समस्या को हल करने के लिए एकत्र हुए और कड़ी मेहनत से इस समस्या को खत्म करने का फैसला किया, जिसके लिए सभी लोगों ने एक साथ मिलकर एक को अध्यक्ष बनाया और योजना को लागू करने की जिम्मेदारी सौंपी और सिर्फ 3.50 लाख खर्च कर पूरी सोसाइटी के लोगों तक पहुंचाया पानी.. और अब लोगों ने आसपास के निवासियों की भी मदद के लिए एक नई पहल की है.

सीहोर के एक स्थानीय नेता नौशादभाई कुरैशी का कहना है कि सीहोर का यह समाज शहर के सामान्य जमीनी स्तर से 100 से 150 फीट की ऊंचाई पर स्थित है, जिसके कारण सिस्टम द्वारा कई प्रयासों के बावजूद समस्या समाप्त नहीं हुई। लेकिन कहते हैं कि किसी भी मुश्किल काम को पूरा करने के लिए सिर्फ इच्छाशक्ति की जरूरत होती है, एक बार मन में ठान लेने के बाद कोई भी काम मुश्किल नहीं होता, ऐसा ही कुछ किया है सीहोर के लीलापीर इलाके के लोगों ने, जो प्लान बनाया है, उसे अमली जामा पहनाया है. स्थानीय लोगों से महज 12-12 हजार रुपये लेकर सोसायटी में उचित जांच भी कराई और 600 फीट की बाड़ भी लगा दी। जिसमें 500 फीट 2.5 इंच की पीवीसी लाइन गिरा दी गई। जैसे प्रकृति भी लोगों के भाग्य का साथ देती है, वैसे ही डार में भी खारा पानी निकला तो लोग खुश हो गए।

उसके बाद 350 फीट लंबी 2 इंच की पीवीसी लाइन पास के सीहोर रियासत के किले की लाइन तक बढ़ाई गई, और किले की लाइन पर 5000 लीटर पानी की टंकी लगाई गई, और उसके बाद 1000 से 1200 फीट लंबी आधा इंच चौड़ी लाइन इसके आसपास करीब 30 घरों में पानी के कनेक्शन बढ़ा दिए गए हैं, दरवाजे से सीधे टंकी में पानी भरा जा सकता है। फिर क्या कहना घर तक पानी पहुंचा दिया। जरूरत पड़ने पर जितना और जितना पानी मिलता है, यहां के लोग अब खुश हैं।

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles