Tuesday, May 21, 2024

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने का समय आ गया है इस दस्तावेज को तैयार रखें आपको इसकी जरूरत पड़ेगी…

अप्रैल शुरू हो गया है और आयकर रिटर्न (आईटीआर फाइलिंग) दाखिल करने का समय शुरू हो गया है। अगर आप भी टैक्सपेयर हैं तो आपको इनकम और टैक्स असेसमेंट करना शुरू कर देना चाहिए। हालाँकि टैक्स फाइलिंग का मौसम अभी शुरू हुआ है, आपके पास अभी भी बहुत समय है, लेकिन जितनी जल्दी आप टैक्स फाइलिंग को पूरा कर लें, उतना ही बेहतर होगा क्योंकि भारत में टैक्स रिटर्न फाइल करने के लिए कुछ तैयारी की आवश्यकता होती है। इसके लिए आपको कई तरह के दस्तावेज (आईटीआर फाइलिंग के लिए जरूरी दस्तावेज) दिखाने होते हैं, कई तरह के सबूत इकट्ठा करने होते हैं- जैसे सैलरी या इनकम डिटेल्स, बैंक स्टेटमेंट, पिछले टैक्स स्टेटमेंट आदि। साथ ही, वेतनभोगी और व्यवसायिक व्यक्तियों के लिए कुछ नियम अलग-अलग हैं, इसलिए आपको पता होना चाहिए कि जब आप आईटीआर फाइल करने जाएंगे तो आपको किन चीजों की जरूरत होगी। हम आपको यहां इसकी पूरी जानकारी दे रहे हैं।

पण कार्ड :

आपके सबसे महत्वपूर्ण आईडी प्रूफ और दस्तावेजों में पैन कार्ड शामिल है। इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने के लिए सबसे पहले आपको इसकी जरूरत पड़ेगी। पैन सरकार द्वारा जारी एक आईडी कार्ड है, जिसमें 10 अंकों का अल्फ़ान्यूमेरिक कोड होता है, जो आपका स्थायी खाता नंबर होता है। यह टीडीएस कटौती के लिए आवश्यक है और यदि आप टैक्स रिफंड चाहते हैं तो इसे आपके बैंक खाते से भी जोड़ा जाना चाहिए।

आधार कार्ड :

आधार कार्ड आपका विशिष्ट आईडी प्रूफ भी है, जिसमें आपका जनसांख्यिकीय और बायोमेट्रिक विवरण होता है। आयकर अधिनियम की धारा 139एए के तहत करदाताओं को आईटीआर दाखिल करते समय आधार विवरण देना होता है। यदि आधार नहीं है (जो शायद ही कभी होगा), तो आपको आधार के लिए आवेदन करना होगा और इसकी नामांकन आईडी प्रदान करनी होगी। आपका आधार और पैन लिंक होना चाहिए, इसके लिए आखिरी तारीख 30 जून, 2023 है।

फॉर्म 16:

फॉर्म 16 भी टैक्स रिटर्न फाइल करते समय जमा किया जाने वाला एक बहुत ही महत्वपूर्ण दस्तावेज है। एक तरह से यह आपका सैलरी सर्टिफिकेट होता है, जिसमें आपकी सैलरी, टैक्स कटने आदि की जानकारी होती है। यह फॉर्म आपकी कंपनी द्वारा जारी किया जाता है। इसमें दो भाग होते हैं – ए और बी।

फॉर्म-16ए एक टीडीएस सर्टिफिकेट है। यह तब आवश्यक होता है जब सावधि जमा, आवर्ती जमा आदि से आपकी आय पर टीडीएस काटा जाता है। प्रॉपर्टी खरीदते समय फॉर्म-16बी देना होता है। यदि कोई संपत्ति 50 लाख से अधिक की राशि में बेची जाती है, तो टीडीएस कटौती अनिवार्य है। वहीं, ऐसे मकान मालिकों को फॉर्म-16सी देना होता है, जो रेंट से 100 रुपए किराए पर लेते हैं। आय से अधिक 50,000।

वेतन पर्ची:

यदि आप एक वेतनभोगी कर्मचारी हैं तो आपको अपनी मासिक वेतन पर्ची देनी होगी।

बैंक के खाते का विवरण:

आपको आईटीआर में अपने सक्रिय बैंक खाते का विवरण देना होगा। इसके लिए आपको अपना नाम, खाता संख्या, IFSC, खाता अवधि और बैंक में आपके कितने खाते हैं, इसकी जानकारी देनी होगी। इसका उपयोग आपके आय विवरण को मान्य करने के लिए किया जाता है। यह आपके द्वारा किए जाने वाले लेन-देन की मात्रा को भी देखता है। यदि धनवापसी की प्रक्रिया है, तो आपको यह भी बताना होगा कि पैसा किस खाते में जाता है।

बैंक पासबुक/स्टेटमेंट:

आपको अपना बैंक अकाउंट पासबुक या स्टेटमेंट भी देना होगा। इससे पता चलता है कि आपको अपने बचत खाते पर कितना ब्याज मिलता है या एफडी आदि पर कितना रिटर्न मिलता है।

निवेश का प्रमाण:

आपके पास निवेश पर टैक्स बचाने की सुविधा है। ऐसे में आपको निवेश का प्रमाण देना होता है कि आप कहां और कितना निवेश करते हैं, ताकि टैक्स छूट का दावा करते समय इसकी पुष्टि की जा सके। आप बीमा प्रीमियम, पीपीएफ, एफडी, होम लोन रीपेमेंट, डोनेशन रसीद, ट्यूशन फीस, म्यूचुअल फंड, एजुकेशन लोन सहित कई अन्य निवेश और खर्चों पर छूट प्राप्त कर सकते हैं। हालांकि, यह छूट केवल पुराने टैक्स सिस्टम में ही मिलती है।

फॉर्म 26AS:

यह फॉर्म आपका वार्षिक कर विवरण है, जो आपके पैन पर भुगतान किए गए कर और कर कटौती के साथ पूरा होता है। इस तरह आपकी टैक्स पासबुक बन जाती है।

अन्य स्रोतों से आय:

निवेश के प्रमाण के साथ-साथ आपको यह भी दिखाना होगा कि आप ब्याज से कितनी कमाई कर रहे हैं। साथ ही अगर आप घर को किराए पर देकर कमाते हैं तो वह भी आपको दिखाना होगा। यदि आप किराए का भुगतान करते हैं, तो आपको किराए की रसीद भी देनी होगी। यदि आपने शेयर बाजार में निवेश किया है और लाभांश अर्जित किया है, तो आप वह भी दिखाएंगे। अनलिस्टेड शेयरों में निवेश की भी घोषणा करनी होती है और ऐसे मामलों में आपको आईटीआर-2 फाइल करना होता है। अगर आप बिजनेस करते हैं तो आपको बैलेंस शीट, ऑडिट रिकॉर्ड, एडवांस टैक्स, टीडीएस सर्टिफिकेट जैसे दस्तावेज देने होते हैं।

गृह ऋण विवरण:
अगर आपने होम लोन लिया है और उसका भुगतान कर रहे हैं तो आप ब्याज दर पर टैक्स कटौती का दावा कर सकते हैं। इसके लिए आपको अपना लोन स्टेटमेंट भी देना होगा।

पूंजी लाभ:

आपको संपत्ति बेचने, शेयरों और प्रतिभूतियों आदि में निवेश करने पर पूंजीगत लाभ कर देना होगा। इसके लिए आपको प्रॉपर्टी सेल डीड, ब्रोकर स्टेटमेंट आदि की जानकारी देनी होगी।

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles