Tuesday, February 27, 2024

कच्चा टमाटर खाने से गुर्दे की पथरी की संभावना किडनी स्टोन से पीड़ित लोग अमरूद के सेवन से बचें, किडनी को स्वस्थ रखने के लिए करें यह उपाय….

हमारे शरीर के सभी अंग महत्वपूर्ण हैं। लेकिन किडनी एक महत्वपूर्ण अंग है। किडनी हमारे शरीर में खून को शुद्ध करती है और शरीर को हाइड्रेट भी रखती है। अगर किडनी ठीक से काम न करे तो हमारा जीना मुश्किल हो जाता है। यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि गुर्दे ठीक से काम करें।

हर दिन कम से कम तीन लीटर पानी:पिएं किडनी के सही तरीके से काम करने के लिए हर दिन कम से कम 3 लीटर पानी पीना चाहिए। इसलिए पानी की मात्रा भी मौसम पर निर्भर करती है। यदि आप उन क्षेत्रों में हैं जहां गर्मी अधिक है, तो पानी की मात्रा थोड़ी अधिक हो सकती है, जबकि ठंडे क्षेत्रों में पानी की खपत कम हो सकती है। पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से किडनी शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालती है।

भोजन में तीन ग्राम से अधिक नमक का सेवन न करें एक व्यक्ति को भोजन में 3 ग्राम से अधिक नमक का सेवन नहीं करना चाहिए, लेकिन भारत में एक औसत व्यक्ति के आहार में 8 से 10 ग्राम नमक होता है। 9 से 13 साल के बच्चों के खाने में 2 ग्राम से ज्यादा नमक नहीं होना चाहिए।

बेंगलुरु के सेंट जॉन्स मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में पीडियाट्रिक नेफ्रोलॉजी विभाग के प्रमुख डॉ. डॉ. अनिल वासुदेवन कहते हैं कि नमक का सेवन जितना अधिक होगा, उच्च रक्तचाप का खतरा उतना ही अधिक होगा। हाइपरटेंशन का सीधा असर किडनी पर पड़ता है। साथ ही अपने आप को फास्ट फूड और अल्ट्रा प्रोसेसिंग फूड से दूर रखें क्योंकि इनमें बहुत से अतिरिक्त प्रिजर्वेटिव होते हैं। आपके द्वारा खाए जाने वाले स्नैक्स में नमक और चीनी की मात्रा अधिक होती है।

चिप्स, कैंडी, सोडा, कोल्ड ड्रिंक, एनर्जी ड्रिंक, पैकेज्ड जूस, सूप, नूडल्स के साथ पिज्जा, हॉटडॉग, बर्गर जैसे खाद्य और पेय रक्तचाप बढ़ाते हैं। इसलिए बेहतर है कि आप रोजाना ताजे फल और सब्जियां खाएं ताकि शरीर में नमक की मात्रा न बढ़े।

बैंगन और टमाटर कम खाएंकिडनी स्टोन है तो न खाएं अमरूद:अमरूद एंटीऑक्सीडेंट और पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं लेकिन किडनी स्टोन वाले लोगों को इसका सेवन सीमित करना चाहिए। अमरूद के बीज गुर्दे की पथरी का कारण बनते हैं।

शारीरिक गतिविधियां कम न करें:आजकल की खराब जीवनशैली के कारण लोग कई तरह की बीमारियों का शिकार हो जाते हैं। शारीरिक गतिविधि कम करने से शरीर में रक्त शर्करा का स्तर बढ़ जाता है। यदि शरीर में ग्लूकोज का स्तर एक निश्चित स्तर के बाद बढ़ जाता है, तो शरीर इस शर्करा को सहन नहीं कर पाता है, इसके बाद व्यक्ति को मधुमेह हो जाता है और फिर गुर्दे प्रभावित होते हैं। लापरवाही से किडनी फेल भी हो सकती है।

किडनी पर पड़ता है धूम्रपान का असर:अगर आप धूम्रपान करते हैं तो हाई ब्लड प्रेशर और किडनी खराब होने का खतरा कई गुना बढ़ जाता है। धूम्रपान रक्त प्रवाह को कम करता है। किडनी ही नहीं शरीर के अन्य अंगों में भी खून कम पहुंचता है। धूम्रपान छोड़ने पर किडनी भी स्वस्थ रहती है।

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles