Wednesday, May 22, 2024

शहरी लोगों में क्यों बढ़ रही पाचन संबंधी समस्याएं क्या कहते हैं सर्वे के नतीजे…

देश में हुए एक सर्वे के मुताबिक, हर 10 में से 7 लोग पाचन संबंधी समस्याओं से पीड़ित हैं। जिन लोगों का पेट खराब रहता है उनकी एक और समस्या होती है। जिन लोगों को पेट की समस्या रही है उन्हें मानसिक स्वास्थ्य की समस्या भी हुई है। इनमें अत्यधिक चिंता, खराब याददाश्त और तेज मिजाज जैसी समस्याएं शामिल हैं।

फार्म फ्रेश टू होम ब्रैंड कंट्री डिलाइट ने इंडियन डायटेटिक एसोसिएशन, मुंबई के साथ मिलकर यह सर्वे किया है। ‘गुट हेल्थ सर्वे’ नाम का यह सर्वे ऑनलाइन कराया गया था, जिसमें 2017 में दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु के लोगों ने हिस्सा लिया था. सर्वे में शामिल महिलाओं और पुरुषों की उम्र 25 से 50 साल के बीच है।

10 में से 7 लोगों को पेट की समस्या :
सर्वे में सामने आया कि शहरों में हर 10 में से 7 लोगों को पाचन या पेट की समस्या है। 59% साप्ताहिक और 12% रोजाना पेट खराब होने की शिकायत करते हैं। 80% का मानना ​​है कि पाचन/पेट की स्वास्थ्य समस्याएं जीवनशैली से जुड़ी पुरानी बीमारियां हो सकती हैं। अच्छी बात यह है कि इस समस्या से बचने के लिए 60 फीसदी से ज्यादा लोगों ने अपनी डाइट में बदलाव किया है।

जंक फूड का सेवन :
सर्वेक्षणों से पता चला है कि खाने की कुछ आदतें पेट खराब कर सकती हैं। सर्वे में शामिल करीब 63 फीसदी लोगों ने कहा कि वे हर हफ्ते जंक, प्रोसेस्ड या पैकेज्ड फूड खाते हैं, जिनमें से 68 फीसदी को पेट की समस्या है। 66 फीसदी मानते हैं कि फास्ट/जंक फूड या प्रोसेस्ड फूड पाचन या पेट की समस्याओं के लिए जिम्मेदार होते हैं. जिस दिन उन्होंने इस प्रकार के भोजन से परहेज किया, उनके पेट की समस्या कम हो गई। सर्वे में शामिल लोग इस बात से सहमत थे कि पेट और दिमाग के बीच एक संबंध है। 59% ने मेमोरी लॉस की शिकायत की। इतना ही नहीं उनका मूड भी लगातार बदलता रहता है। इन लोगों में काम करने की ऊर्जा नहीं होती है। इस तरह की समस्या वाले लोगों की संख्या उन लोगों से ज्यादा होती है जिन्हें बार-बार पाचन संबंधी समस्या होती है।

जंक फूड से होती है बीमारियां:
जंक/प्रोसेस्ड/पैकेज्ड फूड भी तनाव/चिंता के लिए जिम्मेदार होता है जो आंतों के स्वास्थ्य को खराब करता है। जो साबित करता है कि पेट और मन के बीच एक मजबूत संबंध है और पाचन/पेट की समस्याएं कई गैर-संचारी रोगों को जन्म दे सकती हैं। इनमें मोटापा, मधुमेह, उच्च रक्तचाप और हृदय रोग शामिल हैं। मिलावटी खाने से कैंसर होने का भी खतरा रहता है।

आदतों में बदलाव से दिखता है सुधार:
सर्वे में शामिल करीब 67 फीसदी लोगों का मानना ​​था कि जीवनशैली में बदलाव फायदेमंद होते हैं। जिन लोगों ने अपनी जीवन शैली में बदलाव किया, शारीरिक गतिविधि शुरू की और अपने खाने की आदतों में बदलाव किया, उनमें पाचन संबंधी समस्याएं कम हुईं। 10 में से 4 लोगों का मानना ​​है कि रसायन मुक्त और ताजा उपज खाने से पाचन या पेट की समस्याओं को रोकने में मदद मिल सकती है।

चिंता बढ़ने से कम होती है नींद:
आधुनिक जीवनशैली के कारण लोगों में तनाव भी बढ़ गया है। बढ़ी हुई चिंता वाले लोगों को सोने में भी परेशानी होती है। रात को देर से सोना, सोने के बाद सो जाना और फिर देर तक नींद न आना जैसे लक्षण आम हैं। सर्वेक्षण में शामिल आधे से अधिक लोगों ने नियमित रूप से इन समस्याओं का अनुभव किया।

महिलाओं में भी पाई जाती हैं ये समस्याएं:
महिलाओं में ऊर्जा की कमी सबसे आम समस्या है। सर्वेक्षण में शामिल 41 प्रतिशत महिलाएं नियमित रूप से इस समस्या का अनुभव करती हैं। मूड स्विंग भी एक बड़ी समस्या है और 40% महिलाएं नियमित रूप से इसका अनुभव करती हैं। 39% महिलाओं ने माना कि बोरियत एक आम समस्या है। 34% महिलाएं नियमित रूप से चिंता का अनुभव करती हैं।

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles