Tuesday, February 27, 2024

महिलाओं को नारियल क्यों नहीं उगाना चाहिए? क्योंकि सभी को विशेष रूप से पता होना चाहिए…

नारियल को हिंदू धर्म में बहुत पवित्र माना जाता है। किसी भी शुभ कार्य को करने से पहले एक नारियल उठाया जाता है। नारियल का उपयोग गृह प्रवेश, विवाह पूजा आदि कार्यों में किया जाता है। नारियल एक ऐसा फल है जो ऊंचाई पर उगता है। इसकी ऊपरी छाल बहुत सख्त होती है। जिससे कोई भी पशु या पक्षी इस फल को नहीं खा सकता है। और इसी वजह से इस फल को पवित्र माना जाता है।

पूजा-पाठ में होता है इसका इस्तेमाल: किसी भी काम या पूजा-पाठ में नारियल का इस्तेमाल किया जाता है। आपने कई बार देखा होगा कि नारियल सिर्फ पुरुष ही उगाते हैं। शायद ही आपको कोई महिला नारियल उगाती मिलेगी..परंपरागत रूप से नारियल को सृष्टि का बीज माना जाता है। महिला उस बच्चे को जन्म देती है। अर्थात स्त्रियों को उत्पत्ति का कारण माना जाता है। नारियल उगाना यज्ञ का प्रतीक माना जाता है। इसलिए महिलाओं को कभी भी नारियल नहीं उगाना चाहिए।

नए उपकरण खरीदते समय नारियल भी मिलाया जाता है। : जब भी कोई नया साधन या व्यवसाय शुरू करना होता है तो उसकी शुरुआत नारियल उगाकर की जाती है। जब भी नारियल को उगाया जाता है तो उससे निकलने वाला पानी आसपास के क्षेत्र की नकारात्मक ऊर्जा को नष्ट कर देता है। इसलिए शुभ कार्यों में नारियल का प्रयोग किया जाता है। साथ ही लोग अपनी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए नारियल भी उगाते हैं।

पौराणिक कथाओं में भी नारियल का विशेष महत्व है।पौराणिक
कथाओं के अनुसार, जब भगवान विष्णु पृथ्वी पर अवतरित हुए, तो वे अपने साथ तीन चीजें लाए थे: लक्ष्मी, कामधेनु और एक नारियल का पेड़। और इसी वजह से नारियल के पेड़ को कल्प वृक्ष भी कहा जाता है। नारियल में ब्रह्मा, विष्णु और महेश का वास होता है। नारियल पर बने तीन बिंदुओं को देवों के देव महादेव की आंखों का प्रतीक माना जाता है।
नारियल को श्रीफल भी कहा जाता है क्योंकि श्री का अर्थ होता है लक्ष्मी और नारियल माता लक्ष्मी को अत्यंत प्रिय है। अगर आप देवी-देवताओं को श्रीफल यानी नारियल का फल चढ़ाते हैं तो आपके घर में कभी भी धन की कमी नहीं होगी।

Related Articles

Stay Connected

1,158,960FansLike
856,329FollowersFollow
93,750SubscribersSubscribe

Latest Articles